Thu, Jun 24, 2021
Updated 5:12 pm IST
Updated 5:12 pm IST

नीतीश के गृह जिले में मानवता हुई शर्मसार, लाश को कूड़ा-कचरा ढोने वाले ठेले पर लादकर नगर-निगम पहुंचाया श्मशान

Published on : May 17, 2021, 13:46 PM
By : Anirudh kumar
news

HIGHLIGHTS

  • कोरोना महामारी में नीतीश के गृह जिले में मानवता हुई शर्मसार
  • कूड़ा-कचरा ढोने वाले ठेले पर लादकर पहुंचाया जा रहा शव को श्मसान
  • अंत्योष्टि के नाम पर हो रही लूट-खसोट, डीएम ने दिया जांच का आदेश

पटना : कोरोना महामारी इन दिनों बिहार में त्राहिमाम मचा रखा है। मरीजों की संख्या कम हुई। लेकिन मौत से हाहाकार मचा हुआ है। चारों ओर चीख पुकार की स्थिति बनी हुई है। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि इस त्रासदी में किसी को दो गज जमीन तो किसी को कफन भी नसीब नहीं हो रहा है। ताजा मामला बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा का है, जहां मानवता को शर्मसार कर देने वाली एक घटना सामने आई है। दरअसल एक कोरोना मरीज की मौत के बाद उसकी लाश को कूड़ा-कचरा ढोने वाले ठेले पर लादकर शमशान घाट ले जाते हुए देखा गया। 

कल से यह सोशल मीडिया पर वायरल हो रही यह वीडियो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के मुख्यालय की है।  बिहार शरीफ की इस घटना ने सबको विचलित कर दिया है. इस घटना के पीछे जो कहानी है, वो और भी ज्यादा हैरान करने वाली है. बताया जा रहा है कि वार्ड संख्या 8 के वार्ड पार्षद सुशील कुमार उर्फ मिट्ठू ने अंत्योष्टि के 16 हजार 500 रुपये पचा लिया. जिसके कारण इसकी डेड बॉडी को कूड़ा-कचरा ढोने वाले ठेले पर लादकर शमशान घाट ले जाया गया। 

मोहल्लेवालों का कहना है कि साईं मंदिर के पास रामजी रविदास के मकान में मनोज कुमार उर्फ गुड्डू अपनी मां और पत्नी के साथ किराये पर रहता था। 13 मई को सुबह चार बजे बीमारी से उसकी मौत हो गयी। परिजन के साथ स्थानीय लोग भी कोरोना से मौत होने की आशंका जता रहे थे।

जानकारी के मुताबिक मौत की सूचना पाकर वार्ड संख्या आठ के पार्षद सुशील कुमार मिट्ठू वहां पहुंचे। उस समय दर्जनों लोग वहां मौजूद थे। वार्ड पार्षद ने बताया कि निगम में एक कमेटी का गठन हुआ है। इसमें निर्णय लिया गया है कि निगम दाह-संस्कार के लिए 22 हजार रुपये लेगा। मृतक के मामा चंडी निवासी रामावतार प्रसाद ने 16500 रुपये दिये, तब जाकर निगम के लोगों ने दाह-संस्कार किया। 

जलालपुर सेवा समिति के लोगों ने कलेक्टर को आवेदन दिया है, जिसमें पूरी जानकारी दी गई है कि किस तरह से मृतक के परिजनों से पैसा लेकर अमानवीय तरीके से शव को श्मशान घाट ले जाया गया। 

इस पूरे मामले पर जब डीएम योगेन्द्र सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। नगर आयुक्त अंशुल अग्रवाल का कहना है कि नगर निगम के ठेले का इस्तेमाल किसके आदेश पर किया गया, इस बात की जांच की जाएगी। संलिप्त लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।  

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार