Thu, Jun 24, 2021
Updated 2:32 pm IST
Updated 2:32 pm IST

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिब अनूप चन्द्र पांडेय बनाए गए राज्य के नए इलेक्शन कमिश्नर

Published on : Jun 9, 2021, 01:45 AM
By : Bureau
news

HIGHLIGHTS

  • 1984 बैच के IAS ऑफिसर हैं पांडेय, फरवरी 2019 में हुए थे रिटायर
  • योगी सरकार ने 6 महीने की दिलवाई थी सेवा विस्तार

लखनऊ: ऊत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव अनूप चन्द्र पांडेय राज्य के नए इलेक्शन कमिश्नर होंगे। 1984 बैच के IAS ऑफिसर पांडेय फरवरी 2019 में रिटायर हुए थे, हालांकि योगी सरकार ने उनका कार्यकाल 6 महीने के लिए बढ़ा दिया था। वह उत्तर प्रदेश सरकार में मुख्य सचिव भी रह चुके हैं।

12 फरवरी को पूर्व चीफ इलेक्शन कमिश्नर सुनील अरोरा के रिटायर होने के बाद से 3 सदस्यीय कमिशन में एक पद खाली था। अरोरा के बाद फिलहाल सुशील चंद्रा चीफ इलेक्शन कमिश्नर हैं। जबकि राजीव कुमार इलेक्शन कमिश्नर काम देख रहे हैं। अनूप चंद्र पांडेय की नियुक्ति के बाद तीनों पद भर गए हैं।

मुख्य सचिव रहते हुए अनूप चंद्र पांडेय ने कई अहम कामों में योगदान दिया था। 2018 फरवरी में लखनऊ में हुए इंवेस्टर्स समिट कराने में अनूपचंद्र पांडेय की महत्वपूर्ण भूमिका रही थी। साथ ही किसानों की कर्जमाफी और कई दूसरी बड़ी योजनाओं को पूरा करने में भी इनका रोल रहा। योगी सरकार में उन्हें 6 महीने का सेवा विस्तार भी मिला था। अनूप चंद्र पांडे पांडेय का जन्म 15 फरवरी 1959 को चंडीगढ़ में हुआ था। पांडेय ने मैकेनिकल इंजीनियरिंग के साथ मैटीरियल मैनेजमेंट में भी MBA किया हुआ है। इलेक्शन कमिशन के नियमों के मुताबिक, 62 साल के पांडेय का कार्यकाल अगले 3 साल का होगा। 

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार