Wed, Oct 20, 2021
Updated 2:26 pm IST
Updated 2:26 pm IST

तालिबान का दावा- अमरुल्ला सालेह के घर से मिले 6.5 मिलियन डॉलर

Published on : Sep 13, 2021, 18:22 PM
By : Bureau
news

HIGHLIGHTS

  • तालिबान के लड़ाके उस घर तक पहुंच गए हैं, जहां सालेह रहते थे
  • तालिबानी आतंकियों के हवाले से कहा गया है कि सालेह के घर से 6.5 मिलियन डॉलर (करीब 48 करोड़ रुपये) मिले हैं

नई दिल्ली/ काबुल: अफगानिस्तान के पंजशीर प्रांत को छोड़ बाकी पूरा देश तालिबान के कब्जे में है।  इस प्रांत में अहमद मसूद की एनआरएफ (नेशनल रेजिस्टेंस फोर्स) सेना तालिबान से कड़ा मुकाबला कर रही है। पू्र्व उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह भी एनआरएफ (Fight in Panjshir) से जुड़ गए हैं और पंजशीर में ठहरे हुए हैं। इस बीच खबर आई है कि तालिबान के लड़ाके उस घर तक पहुंच गए हैं, जहां सालेह रहते थे. पाकिस्तान के एक पत्रकार ने इसका वीडियो भी पोस्ट किया है,  जिसमें बताया गया है कि तालिबानियों को सालेह के घर से डॉलर और कीमती सामान मिला है। 

घर से मिले 48 करोड़ रुपये 

मीडिया रिपोर्ट्स में तालिबानी आतंकियों के हवाले से कहा गया है कि सालेह के घर से 6.5 मिलियन डॉलर (करीब 48 करोड़ रुपये) मिले हैं।  तालिबानियों ने ये भी कहा है कि उसे सालेह के घर से सोने की ईंटें और दूसरा कीमती सामान मिला है।  साथ ही दावा किया है कि उसे जो पैसे मिले हैं, वो कुल रकम का केवल छोटा सा हिस्सा है। वायरल वीडियो में तालिबानियों ने हाथों में डॉलर की गड्डी पकड़ी हुई हैं।  पास में सोने की ईंटें भी रखी हैं, जिनकी ये लोग तस्वीरें ले रहे हैं। 

सालेह के भाई रोहुल्लाह की हत्या की

तालिबान ने अमरुल्लाह सालेह के भाई रोहुल्ला सालेह की भी हत्या कर दी है। वह एनआरएफ की एक यूनिट के कमांडर थे।  ऐसा कहा जा रहा है कि तालिबान ने रोहुल्ला के शव को ठीक से दफनाने तक नहीं दिया है।  सालेह परिवार के सदस्य इबादुल्लाह सालेह ने बताया कि तालिबान ने उनके चाचा की हत्या की है। तालिबान शव भी दफनाने नहीं दे रहा और कह रहा है कि उसे ऐसे ही सड़ जाना चाहिए। वहीं अहमद मसूद के समर्थक मार्शल दोस्तम ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आग्रह किया है कि वह तालिबान की सरकार को मान्यता देने में जल्दबाजी ना दिखाए। 

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार