Wed, Oct 20, 2021
Updated 2:26 pm IST
Updated 2:26 pm IST

RSS पर टिप्पणी करना जावेद अख्तर को पड़ा महंगा, दर्ज हुई प्राथमिकी

Published on : Oct 4, 2021, 18:29 PM
By : Bureau
news

HIGHLIGHTS

  • राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर कथित टिप्पणी को लेकर मुंबई पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है
  • जावेद ने कथित तौर पर आरएसएस और तालिबान को एक समान बताया था
  • वकील संतोष दुबे की शिकायत पर दर्ज हुयी प्राथमिकी

मुंबई: प्रसिद्ध फिल्मकार और लेखक जावेद अख्तर की मुश्किलें काफी बढ़ गयी हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर कथित टिप्पणी को लेकर मुंबई पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। जावेद ने कथित तौर पर आरएसएस और तालिबान को एक समान बताया था। 

वकील संतोष दुबे की शिकायत पर दर्ज हुयी प्राथमिकी 

मुंबई पुलिस ने शहर के वरिष्ठ वकील संतोष दुबे की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज की हैं।  जावेद अख्तर पर प्राथमिकी मुलुंड पुलिस स्टेशन में दर्ज की गयी हैं।  इस मामले के सूचक संतोष दुबे ने कहा कि "मैंने पहले अख्तर को कानूनी नोटिस भेजा था और उनसे अपनी टिप्पणी पर माफी मांगने को कहा था, लेकिन वह ऐसा करने में विफल रहे। अब, मेरी शिकायत पर उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।" 

प्राथमिकी दर्ज होने की जानकारी देते हुए एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि भारतीय दंड संहिता की धारा 500 (मानहानि की सजा) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। 

गौरतलब हो कि पिछले कुछ दिनों पहले प्रसिद्ध गीतकार जावेद अख्तर ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की तुलना तालिबानियों से कर दी थी। उनके इस ब्यान से देश की राजनीति काफी गर्म हो गयी थी।  

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार