Tue, Aug 3, 2021
Updated 1:53 pm IST
Updated 1:53 pm IST

कश्मीर मसले पर राज्य के 14 दलों के नेताओं के साथ पीएम मोदी करेंगे अहम बैठक, सियासी हलचल तेज

Published on : Jun 24, 2021, 11:15 AM
By : Bureau
news

HIGHLIGHTS

  • बैठक से पहले जम्मू-कश्मीर के पार्टी नेताओं से बात कर रहे हैं बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा
  • 3 बजे होने वाली इस बैठक में जम्मू-कश्मीर से राजनीतिक गतिरोध खत्म करने पर हो सकती है बातचीत
  • पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुला, महबूबा मुफ्ती सहित कई बड़े नेता रहेंगे मौजूद

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाए जाने के लगभग दो साल बाद आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी राज्य के 14 दलों के नेताओं के साथ एक अहम बैठक करने जा रहे हैं। माना जा रहा है कि 3 बजे होने वाली इस बैठक में जम्मू-कश्मीर से राजनीतिक गतिरोध खत्म करने पर बातचीत हो सकती है। इस बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुला, महबूबा मुफ्ती सहित कई बड़े नेता मौजूद रहेंगे। 

इस बैठक से पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्य्क्ष जे पी नड्डा पार्टी मुख्यालय में कश्मीर के भाजपा नेताओं के साथ अहम बैठक कर रहे हैं। जिसमें रविन्द्र रैना, कवींद्र गुप्ता, निर्मल सिंह और मंत्री जितेंद्र सिंह शामिल हैं। 

वहीं दूसरी ओर महबूबा के पाकिस्तान से बातचीत वाले बयान पर बवाल शुरू हो गया है। जम्मू में डोगरा फ्रंट ने उनके खिलाफ प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि महबूबा को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए। इसके लिए उन्हें जेल की सलाखों के पीछे डाल देना चाहिए।

आज की इस बैठक में शामिल होने के लिए महबूबा मुफ्ती दिल्ली पहुंच गई हैं। उन्होंने कहा कि वो खुले दिल से चर्चा करेंगी। हालांकि, कुछ दो दिन पहले उन्होंने यह भी कहा था कि आर्टिकल 370 को वापस देना चाहिए और जम्मू-कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान से बात करनी चाहिए। 

जानकारी के मुताबिक आज की इस बैठक में जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनावों को लेकर चर्चा हो सकती है। 2018 के बाद जम्मू-कश्मीर में कोई चुनी हुई सरकार नहीं है। बुधवार को ही चुनाव आयोग ने जम्मू-कश्मीर में परिसीमन के मसले पर एक मीटिंग की है। जानकारी के मुताबिक, मीटिंग में जम्मू-कश्मीर के करीब 20 डिप्टी कमिश्नर शामिल हुए थे।

जम्मू-कश्मीर को अलग केन्द्र शासित प्रदेश बनाने के साथ ही यहां विधानसभा सीटें बढ़ाई गई हैं। अभी यहां 114 सीटें हैं, जिनमें से 24 PoK की हैं। यानी मौजूदा वक्त में चुनाव के लिए करीब 90 सीटें होंगी।

इस बैठक में सिर्फ जम्मू-कश्मीर के आंतरिक मसले ही नहीं, बल्कि इससे जुड़े कुछ बाहरी मसलों पर चर्चा हो सकती है। इनमें अफगानिस्तान से अमेरिकी सेनाओं का हटना, लद्दाख में चीनी सैनिकों का लगातार परेशानी बढ़ाने जैसे मसले शामिल हैं।

गौरतलब है कि 5 अगस्त 2019 को केंद्र ने जम्मू-कश्मीर के स्पेशल स्टेट्स को खत्म कर राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया था। उसके बाद से राजनीतिक हालात अस्थिर हो गए थे। ज्यादातर बड़े नेता नजरबंद रहे। कुछ को पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) के तहत जम्मू और कश्मीर के बाहर जेलों में भेज दिया गया। अब मोदी की मुलाकात को केंद्र की ओर से जम्मू-कश्मीर में जम्हूरियत कायम करने के लिए सभी दलों से बात करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है।

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार